Happy Janmashtami 2021 जन्माष्टमी पर करें ये उपाय, श्री कृष्ण होंगे प्रसन्न, खुल जायेगी किस्मत और इन भक्तिमय संदेशों से दें जन्माष्टमी की बधाई

Happy Janmashtami 2021:

Janmashtami 2021 Date in India: जन्माष्टमी, भगवान कृष्ण की जन्म तिथि, पूरे देश में व्यापक रूप से मनाया जाता है। इस वर्ष यह शुभ दिन 30 अगस्त 2021 दिन (सोमवार) को पड़ रहा है।

Janmashtami 2021 Date our time in India:

  1. कृष्ण जन्माष्टमी 2021 तिथि: 30 अगस्त (सोमवार)
  2. दही हांडी 2021 दिनांक: 31 अगस्त (मंगलवार)
  3. कृष्ण जन्माष्टमी 2021 का समय
  4. मथुरा में निशिता पूजा का समय: 11:57 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:42 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  5. अष्टमी तिथि शुरू: 29 अगस्त को रात 11:25 बजे
  6. अष्टमी तिथि समाप्त: 31 अगस्त को सुबह 1:59 बजे
  7. रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ: 30 अगस्त को पूर्वाह्न 06:39
  8. रोहिणी नक्षत्र समाप्त: 31 अगस्त को सुबह 9:44 बजे
  9. यहाँ अन्य भारतीय शहरों के लिए निशिता पूजा का समय है:
  10. अहमदाबाद: 12:18 पूर्वाह्न से 1:03 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  11. बेंगलुरु: 11:57 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:43 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  12. चंडीगढ़: 12:01 पूर्वाह्न से 12:46 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  13. चेन्नई: 11:46 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:33 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  14. गुड़गांव: 12:00 पूर्वाह्न से 12:45 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  15. हैदराबाद: 11:54 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:40 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  16. जयपुर: 12:05 पूर्वाह्न से 12:50 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  17. कोलकाता: 11:14 अपराह्न (30 अगस्त) से दोपहर 12:00 बजे (31 अगस्त)
  18. मुंबई: 12:16 पूर्वाह्न से 01:02 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  19. नोएडा: 11:59 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:44 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  20. नई दिल्ली: 11:59 अपराह्न (30 अगस्त) से 12:44 पूर्वाह्न (31 अगस्त)
  21. पुणे: 12:12 पूर्वाह्न से 12:58 पूर्वाह्न (31 अगस्त)

Happy Janmashtami 2021
Happy Janmashtami 2021

New Delhi: Krishna Janmashtami 2021 एक हिंदू त्योहार है जो भगवान कृष्ण के जन्म का प्रतीक है। और हिंदू धर्मग्रंथों के अनुसार, भगवान कृष्ण हिंदू धर्म के त्रिमूर्ति देवताओं में से एक भगवान विष्णु के आठवें अवतार माने जाने वाले कृष्ण का जन्म भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष (अंधेरे पखवाड़े) के आठवें दिन (अष्टमी) को हुआ था।

तथा इस दिन को भारत के विभिन्न हिस्सों में गोकुलाष्टमी, अष्टमी रोहिणी, श्री कृष्णष्टमी और श्रीकृष्ण जयंती के के नाम से भी जाना जाता है। Krishna Janmashtami 2021 हिंदू कैलेंडर के अनुसार कृष्ण पक्ष के 8 वें दिन आती है।


दिन के लिए पूजा का समय एक शहर से दूसरे शहर में कुछ मिनटों का हो सकता है। हालांकि, सभी शहर कृष्ण जन्माष्टमी के अगले दिन दही हांडी का त्योहार मनाए जायेगे। जन्माष्टमी विशेष रूप से मथुरा (जिसे भगवान कृष्ण का जन्मस्थान माना जाता है)

और राजस्थान, गुजरात के कई हिस्सों में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार असम और मणिपुर जैसे पूर्वोत्तर राज्यों में भी मनाया जाता है। 


त्योहार की उत्पत्ति पौराणिक कथाओं में निहित है। कई कहानियों के अनुसार, भगवान कृष्ण के चाचा, राजा कंस, उन्हें मारना चाहते थे क्योंकि पूर्व को बताया गया था कि कृष्ण उन्हें मार देंगे। इस प्रकार, जैसे ही उनका जन्म हुआ, कृष्ण के पिता वासुदेव उन्हें यमुना के पार गोकुल ले गए। यहीं पर उनका पालन पोषण माता-पिता नंदा और यशोदा ने किया।

इसलिए, जन्माष्टमी न केवल कृष्ण के जन्म का प्रतीक है, बल्कि राजा कंस पर उनकी विजय का भी प्रतीक है। भक्त और श्रद्धालु पूरे दिन उपवास रखते हैं। कुछ लोग भक्ति गीत भी गाते हैं और आधी रात तक जागते हैं क्योंकि उस समय भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था।


Krishna Janmashtami 2021 कृष्ण उपासकों द्वारा प्रेम और आनंद के साथ मनाई जाती है। पूजा आधी रात के आसपास होती है क्योंकि माना जाता है कि उस समय कृष्ण का जन्म हुआ था। इस दिन को उपवास अनुष्ठानों और भगवद गीता को पढ़ने या सुनने के द्वारा चिह्नित किया जाता है। मंदिरों को फूलों और मालाओं से सजाया जाता है। दही हांडी उत्सव इस आयोजन में आनंद और उत्साह जोड़ता है। इस त्योहार में, दही हांडी (दही का मिट्टी का बर्तन) को पकड़ने के लिए मानव पिरामिड बनाए जाते हैं।


Happy Janmashtami 2021
Happy Janmashtami 2021

Krishn Janmashtami पर करें ये उपाय:

  • हालांकि, ज्योतिषियों के अनुसार जन्माष्टमी के दिन घर पर गाय या बछड़े की मूर्ति लायें. और ऐसा करने पर आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा. भगवान श्रीकृष्ण की कृपा से निःसंतान दंपत्ति को संतान की प्राप्ति भी होगी.
  • जन्माष्टमी के दिन सात कन्याओं को बुलाकर खीर खिलाएं. ऐसा आप आगे के पांच शुक्रवार तक लगातार करें. हालांकि, मान्यता है कि ऐसा करने से आपका आमदनी भी बढ़ता है तथा नौकरी और व्यापार में बढ़ोत्तरी होती है और आपका आमदनी भी बढ़ता है|

Happy Janmashtami 2021 Puja: खीरे के बिना क्यों अधूरी रहती है पूजा आइए जानें, श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा

  • Krishn Janmashtami पर पूजा के दौरान भगवान श्री कृष्ण को परिजात के फूल चढ़ाएं तथा शंख में दूध भरकर कान्हा जी को अर्पित करें. इससे मां लक्ष्मी जी और भगवान कृष्ण जी का भी आशीर्वाद प्राप्त होगा. और कहा जात है कि ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना पूर्ण होती है.
  • जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण जी को चांदी की बांसुरी अर्पित करें. पूजा संपन्न होने के बाद इस बांसुरी को तिजोरी या पर्स में रखें. ऐसा करने से धन और लाभ भी होगा.
  • Krishn Janmashtami के दिन भगवान को 56 भोग लगाएं. ऐसा करने से देवकी नंदन (भगवान श्री कृष्ण) प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी  दुख और सभी मनोकामनायें पूरा करते हैं.
  • जन्माष्टमी के दिन शाम को तुलसी जी की पूजा करें. साथ ही, ओम नमः वासुदेवाय मंत्र का जाप करते हुए 11 बार तुलसी जी परिक्रमा करें. तथा ऐसा करने से कर्ज से मु्क्ति मिलेगी.
  • Krishn Janmashtami पर दूध में केसर मिलाकर रात 12 बजे भगवान श्री कृष्ण का अभिषेक करें. ऐसा करने से आर्तिक स्थिति मजबूत होती है.और घर में सुख-समृद्धि, जीवन में ठहराव आता है

नोट: लाइफस्टाइल से जुड़ी और खबरों के लिए हमें Indian Army TGC 134 Vacancies Recruitment 2021:(Instagram)र फॉलो करें |Facebook|WhatsApp और नवीनतम अपडेट से न चूकें!


Last Ward: उम्मीदवार अपनी टिप्पणी कमेंट बॉक्स में छोड़ सकते हैं। इस पोस्ट से संबंधित किसी भी प्रश्न का स्वागत किया जाएगा और हमारा विशेषज्ञ पैनल आपकी क्वेरी को हल करने का प्रयास करेंगे| 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe To Our Newsletter

Subscribe To Our Newsletter

Join our mailing list to receive the latest news and updates from our team.

You have Successfully Subscribed!

Scroll to Top